TABASSUMPAR94

कृपाराम (Kriparam : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में

कृपाराम (Kriparam : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में कृपाराम : इनका कुछ वृत्तांत ज्ञात नहीं। इन्होंने संवत् 1598 में रसरीति पर...

Continue reading...

छीहल (Chheehal : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में

छीहल (Chheehal : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में छीहल : ये राजपूताने की ओर के थे। संवत् 1575 में इन्होंने ‘पंचसहेली‘...

Continue reading...

भक्तिकाल की फुटकल रचनाएँ (Bhaktikaal ki Futkal Rachnayen)

भक्तिकाल की फुटकल रचनाएँ (Bhaktikaal ki Futkal Rachnayen) जिन राजनीतिक और सामाजिक परिस्थितियों के बीच भक्ति का काव्य प्रवाह उमड़ा, उनका संक्षिप्त उल्लेख आरंभ में हो...

Continue reading...

सूरदास मदनमोहन (Soordas Madanmohan) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में

सूरदास मदनमोहन (Soordas Madanmohan) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में ये अकबर के समय में संडीले के अमीन थे। जाति के ब्राह्मण और गौड़ीय संप्रदाय...

Continue reading...

मीराबाई (Meerabai : the Hindi poetess) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में

मीराबाई (Meerabai : the Hindi poetess) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में ये मेड़तिया के राठौर रत्नसिंह की पुत्री, राव दूदाजी की पौत्री और जोधपुर...

Continue reading...

पं. अयोध्यासिंहजी उपाधयाय ‘हरिऔध’ : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में

  पं. अयोध्यासिंहजी उपाधयाय ‘हरिऔध‘ : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में कवि के रूप में पं. अयोध्यासिंहजी उपाधयाय (हरिऔध) : भारतेंदु के पीछे और द्वितीय...

Continue reading...

भिखारादास : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में

भिखारादास : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में दास (भिखारी दास) : ये प्रतापगढ़ (अवध) के पास टयोंगा गाँव के रहने वाले श्रीवास्तव कायस्थ थे। इन्होंने...

Continue reading...