PRIYANKA AGGRAWAL

क़ादिर (Qadir : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में

क़ादिर (Qadir : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में क़ादिरबख़्श पिहानी जिला हरदोई के रहनेवाले और सैयद इब्राहीम के शिष्य थे। इनका...

Continue reading...

बनारसीदास (Banarsidas : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में

बनारसीदास (Banarsidas : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में ये जौनपुर के रहनेवाले एक जैन जौहरी थे जो आमेर में भी रहा...

Continue reading...

पुहकर कवि (Puhkar kavi : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में

पुहकर कवि (Puhkar kavi : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में ये परतापपुर (जिला मैनपुरी) के रहने वाले थे, पर पीछे गुजरात...

Continue reading...

सुंदर (Sundar : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में

सुंदर (Sundar : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में ये ग्वालियर के ब्राह्मण थे और शाहजहाँ के दरबार में कविता सुनाया करते...

Continue reading...

महाराज टोडरमल (Maharaj Todarmal : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में

महाराज टोडरमल (Maharaj Todarmal : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में ये कुछ दिन शेरशाह के यहाँ ऊँचे पद पर थे, पीछे...

Continue reading...

नरोत्तमदास (Narottamdas : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में

नरोत्तमदास (Narottamdas : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में ये सीतापुर जिले के वाड़ी नामक कस्बे के रहनेवाले थे। शिवसिंहसरोज में इनका...

Continue reading...

छीहल (Chheehal : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में

छीहल (Chheehal : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में छीहल : ये राजपूताने की ओर के थे। संवत् 1575 में इन्होंने ‘पंचसहेली‘...

Continue reading...

भक्तिकाल की फुटकल रचनाएँ (Bhaktikaal ki Futkal Rachnayen)

भक्तिकाल की फुटकल रचनाएँ (Bhaktikaal ki Futkal Rachnayen) जिन राजनीतिक और सामाजिक परिस्थितियों के बीच भक्ति का काव्य प्रवाह उमड़ा, उनका संक्षिप्त उल्लेख आरंभ में हो...

Continue reading...