KAVITA KUMARI

बनारसीदास (Banarsidas : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में

बनारसीदास (Banarsidas : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में ये जौनपुर के रहनेवाले एक जैन जौहरी थे जो आमेर में भी रहा...

Continue reading...

पुहकर कवि (Puhkar kavi : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में

पुहकर कवि (Puhkar kavi : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में ये परतापपुर (जिला मैनपुरी) के रहने वाले थे, पर पीछे गुजरात...

Continue reading...

ध्रुवदास (Druvdas : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में

ध्रुवदास (Druvdas : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में ये श्री हितहरिवंश जी के शिष्य स्वप्न में हुए थे। इसके अतिरिक्त इनका...

Continue reading...

हरीराम व्यास जी (HARIRAM VYAS : THE HINDI POET) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में

हरीराम व्यास जी (HARIRAM VYAS : THE HINDI POET) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में इनका पूरा नाम हरीराम व्यास था और ये ओरछा के...

Continue reading...

स्वामी हरिदास (Swami Haridas : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में

स्वामी हरिदास (Swami Haridas : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में स्वामी हरिदास वृंदावन में निंबार्क मतांतर्गत टट्टी संप्रदाय के संस्थापक थे...

Continue reading...

मीराबाई (Meerabai : the Hindi poetess) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में

मीराबाई (Meerabai : the Hindi poetess) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में ये मेड़तिया के राठौर रत्नसिंह की पुत्री, राव दूदाजी की पौत्री और जोधपुर...

Continue reading...

कुंभनदास (Kumbhandas) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में

कुंभनदास (Kumbhandas) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में ये भी अष्टछाप के एक कवि थे और परमानंद जी के ही समकालीन थे। वे पूरे विरक्त...

Continue reading...

परमानंददास (Parmananddas) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में

परमानंददास (Parmananddas) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में यह भी बल्लभाचार्य जी के शिष्य और अष्टछाप में थे। ये संवत् 1606 के आसपास वर्तमान थे।...

Continue reading...