BABUN ALAM

VILOM SHABD-2/विलोम शब्द-2

विलोम शब्द-2 (नोट : इससे पूर्व के शब्द ‘विलोम शब्द-1’ में देखिए।)   #विलोम शब्द-2   #नक़ली-असली #नख-सिख #नगर-ग्राम, देहात #नमकहलाल-नमकहराम #नया-पुराना #नर-नारी #नवीन-प्राचीन नश्वर-शाश्वत #नागरिक-ग्रामीण...

Continue reading...

पर्यायवाची शब्द-2/PARYAYVAACHI Shabd-2

#इच्छा : अभिलाषा, आकांक्षा, ईप्सा, ईहा, कामना, चाह, तृष्णा, मनोरथ, वांछा, स्पृहा। #इन्द्र : जम्भभेदी विष्णु, तुराषाट्, देवराज, नमुचिसूदन, नाकपति, पाकरिपु, पाकशासन, पुरन्दर, पुरुहूत, बलभिद्, बलाराति,...

Continue reading...

हिंदी में आए विदेशज या विदेशी शब्द

  हिंदी में आए विदेशज या विदेशी शब्द हिंदी भाषा में प्रयुक्त होने वाले विदेशी शब्दों को विदेशज या विदेशी शब्द कहते हैं। ये शब्द हिंदी...

Continue reading...

मलिक मुहम्मद जायसी (MALIK MUHAMMAD JAYSI) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में

मलिक मुहम्मद जायसी (MALIK MUHAMMAD JAYSI) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में ये प्रसिद्ध सूफी फकीर शेख मोहिदी (मुहीउद्दीन) के शिष्य थे और जायस में...

Continue reading...

शारंगधर (SHARANGDHAR) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में

शारंगधर : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में शारंगधर का आयुर्वेद का ग्रंथ तो प्रसिद्ध ही है। ये अच्छे कवि और सूत्रकार भी थे। इन्होंने ‘शारंगधर...

Continue reading...

विद्यापति : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में

विद्यापति : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में यद्यपि पचास-साठ वर्ष पीछे विद्यापति (संवत् 1460 में वर्तमान) ने बीच-बीच में देशभाषा के भी कुछ पद्य रखकर...

Continue reading...