Abdul ahad professor Hashim Raza prof. Abbu Raza Priyanka Agrawal professor Pramod Mahatoa

लालचंद या लक्षोदय (Lalchand or Lakshodaya : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में

लालचंद या लक्षोदय (Lalchand or Lakshodaya : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में ये मेवाड़ के महाराणा जगतसिंह (संवत् 1685-1709) की माता...

Continue reading...

महाराज टोडरमल (Maharaj Todarmal : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में

महाराज टोडरमल (Maharaj Todarmal : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में ये कुछ दिन शेरशाह के यहाँ ऊँचे पद पर थे, पीछे...

Continue reading...

नरोत्तमदास (Narottamdas : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में ये सीतापुर जिले के वाड़ी नामक कस्बे के रहनेवाले थे। शिवसिंहसरोज में इनका...

Continue reading...

महापात्र नरहरि बंदीजन (Mahapatra Narhari Bandijan : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में

महापात्र नरहरि बंदीजन (Mahapatra Narhari Bandijan : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में महापात्र नरहरि बंदीजन : इनका जन्म संवत् 1562 में...

Continue reading...

कृपाराम (Kriparam : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में

कृपाराम (Kriparam : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में कृपाराम : इनका कुछ वृत्तांत ज्ञात नहीं। इन्होंने संवत् 1598 में रसरीति पर...

Continue reading...

लालचदास (Lalachdas : the Hindi poet) :  आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में

लालचदास (Lalachdas : the Hindi poet) :  आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में लालचदास : ये रायबरेली के एक हलवाई थे। इन्होंने संवत् 1585 में ‘हरिचरित‘...

Continue reading...

छीहल (Chheehal : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में

छीहल (Chheehal : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में छीहल : ये राजपूताने की ओर के थे। संवत् 1575 में इन्होंने ‘पंचसहेली‘...

Continue reading...

भक्तिकाल की फुटकल रचनाएँ (Bhaktikaal ki Futkal Rachnayen)

भक्तिकाल की फुटकल रचनाएँ (Bhaktikaal ki Futkal Rachnayen) जिन राजनीतिक और सामाजिक परिस्थितियों के बीच भक्ति का काव्य प्रवाह उमड़ा, उनका संक्षिप्त उल्लेख आरंभ में हो...

Continue reading...