हिंदी भाषा और साहित्य सम्भावित प्रश्नोत्तरी-1

हिंदी भाषा और साहित्य सम्भावित प्रश्नोत्तरी-1

  1. नामवर सिंह ने ‘संस्कृति और सौंदर्य’ निबंध में हजारीप्रसाद द्विवेदी द्वारा रचित ‘अशोक के फूल’ की रचना का उद्देश्य निम्नलिखित में से किसे माना है ?
  2. प्राकृतिक व प्रकृति वर्णन
  3. संस्कृति की मित्रता को उजागर करना
  4. आर्य संस्कृति की शुद्धता के अहंकार पर चोट
  5. सामासिक संस्कृति को प्रोत्साहन

 

  1. निम्नलिखित में से कौन-कौन-सी रचनाएँ भारतीय प्रशासन व्यवस्था पर सटीक व्यंग्य करती है :

(a) भोलाराम का जीव  (b) सिक्का बदल गया (c)  जामुन का पेड़ (d) पिता

नीचे दिए गए विकल्पों में से सही उत्तर चुनिए :

  1. (a) और (c)
  2. (a) (b) और (c)
  3. (b) (c) और (d)
  4. (a) (b) और (d)

 

  1. जन्मकाल के अनुसार निम्नलिखित रचनाओं का रचनाकारों का सही अनुक्रम क्या है?
  2. जायसी, सूरदास, तुलसी, रहीम
  3. सूरदास, तुलसी, जायसी, रहीम
  4. सूरदास, जायसी, तुलसी, रहीम
  5. जायसी, तुलसी, रहीम, सूरदास

 

  1. सखी पिया को जो मैं न देखूँ

तो कैसे काटूँ अंधेरी रतियाँ

उपर्युक्त काव्य पंक्तियां किस कवि की है?

  1. विद्यापति 2. नरपति नाल्ह 3. अमीर ख़ुसरो 4. भट्ट केदार

 

  1. निम्नलिखित रचनाओं को उनके प्रकाशनकाल से सुमेलित कीजिए :

सूची-I                         सूची-II

(रचनाएं)          (प्रकाशनकाल)

(a)          मोहन राकेश की डायरी      (i) 2000 ई.

(b)          डायरी के कुछ पन्ने         (ii) 1958 ई.

(c)           मेरी कॉलेज डायरी         (iii)1972 ई.

(d)          एक कार्यकर्ता की डायरी     (iv) 1950 ई. (v) 1940  ई.

निम्नलिखित में से सही विकल्प चुनिए :

  1. (a)-(iv); (b)-(iii); (c)-(i); (d)-(v)
  2. (a)-(iii); (b)-(ii); (c)-(v); (d)-(iv)
  3. (a)-(iv); (b)-(v); (c)-(ii); (d)-(iii)
  4. (a)-(v); (b)-(iii); (c)-(ii); (d)-(i)

 

  1. निर्देश : प्रश्न में दो कथन दिए गए हैं। इनमें से एक स्थापना (Assertion) (A) है और दूसरा तर्क (Reason) (R) है। दिए गए विकल्पों में से सही विकल्प का चयन कीजिए :

स्थापना (Assertion) (A) : यूरोपीय साहित्य मीमांसा में कल्पना को बहुत प्रधान दी गई है। तर्क (Reason) (R) :  कल्पना काव्य का अनिवार्य आते हैं साध्य है।

विकल्प :

  1. (A) सही (R) सही
  2. (A) गलत (R) सही
  3. (A) सही (R) गलत
  4. (A) गलत (R) गलत

पाठबोधन (COMPREHENSION)  :

भारतीय काव्य-मनीषियों ने काव्य की वस्तु के साथ ही उसके अर्थ की सीमा का अन्वेषण भी किया है। काव्य की अर्थव्याप्ति समूचे मानवलोक में होती है।

  1. उपर्युक्त अनुच्छेद के संदर्भ में काव्य-मनीषियों की दृष्टि से समन्वयात्मक होने का आधार क्या है?
  2. उसका मनोवैज्ञानिक यथार्थ से जुड़ा होना
  3. मनोवैज्ञानिक यथार्थ और आदर्शवाद से जुड़ा होना
  4. प्रगतिवाद के सैद्धान्तिक आधार को अपनाना
  5. आदर्शवादी दार्शनिकता से जुड़ा होना