NTA/UGC NET/JRF AUG-2016, HINDI-2 : QUESTIONS & ANSWERS

NTA/UGC NET/JRF AUG-2016, HINDI-2 : QUESTIONS & ANSWERS

  1. आचार्य रामचन्द्र शुक्ल के अनुसार किस आचार्य ने अपभ्रंश को लोकभाषा न कहकर देशभाषा कहा है ?

(A) वररुचि (B) हेमचन्द्र (C) भरतमुनि (D) वाणभट्ट

ANS : (C) भरतमुनि

  1. वज्रयान में महासुख दशा की प्राप्ति किससे मानी गई है ?

(A) प्रज्ञा और उपाय को योग से    (B) शून्य और विज्ञान से

(C) देवताओं के युगनद्ध स्व:प से (D) गुह्य प्रकृति से

ANS : (A) प्रज्ञा और उपाय को योग से

  1. हिन्दू पूजै देहरा, मुसलमान मसीदकिस कवि की पंक्ति है?

 (A) कबीर (B) नामदेव (C) रैदास (D) सुन्दरदास

ANS : (B) नामदेव

  1. ज्ञानदीपके रचयिता हैं ?

(A) क़ासिम शाह (B) जायसी (C) मंझन (D) शेख़ नबी

ANS : (D) शेख़ नबी

  1. गोस्वामी के प्रादुर्भाव को हिन्दी काव्य क्षेत्र में एक चमत्कार समझना चाहिए।यह कथन किस आलोचक का है?

(1) रामविलास शर्मा        (2) रामचन्द्र शुक्ल

(3) हजारीप्रसाद द्विवेदी    (4) नन्ददुलारे वाजपेयी

ANS : (2) रामचन्द्र शुक्ल

  1. रामध्यानमंजरीके रचयिता हैं :

(A) तुलसीदास (B) केशवदास (C) स्वामी अग्रदास (D) हृदयराम

ANS : (B) केशवदास

  1. अपना परिचय देते हुए किस कवि ने स्वीकार किया है कि

हयरथ, पालकी, गयंद, गृह, ग्राम, चा:

आखर लगाय लेत लाखन की सामा हौं।

(1) भूषण    (2) देव

(3) प्रतापसाहि (4) पद्माकर

ANS : (4) पद्माकर

  1. तिय सैसव जोबन मिले, भेद न जान्यो जात।

प्रात समय निसि द्यौस के दुवौ भाव दर सात

उक्त दोहे में नायिका की किस अवस्था का वर्णन हुआ है?

(1) वयःसंधि (2) युवावस्था

(3) प्रौढ़ावस्था (4) शैशवावस्था

ANS : (1) वयःसंधि

  1. निम्नलिखित में से कौन-सा खणअडकाव्य रामनरेश त्रिपाठी का नहीं है ?

(A) मिलन (B) स्वप्न (C) पथिक (D) नहुष

ANS : (D) नहुष

  1. समरस थे जड़ या चेतन

सुन्दर साकार बना था

चेतनता एक विलसती

आनन्द अखंड घना था।

जयशंकर प्रसाद की उपर्युक्त पंक्तियां कामायनी के किस सर्ग की हैं?

(1) श्रद्धा (2) रहस्य (3) आनन्द (4) इड़ा

ANS : (3) आनन्द

  1. बालकृष्ण भट्ट द्वारा रचित उपन्यास है :

(A) धूर्तरसिक लाल (B) श्यामा स्वप्न (C) निस्सहाय हिन्दू (D) सौ अजान एक सुजान

ANS : (D) सौ अजान एक सुजान

  1. सूखा बरगद’ उपन्यास के लेखक हैं :

(A) असग़र वजाहत (B) अब्दुल बिस्मिल्लाह (C) मंज़ूर एहतिशाम (D) मेहरुन्निसा परवेज़

ANS : (C) मंज़ूर एहतिशाम

  1. भारतेन्दु ने अपने किस नाटक को नाट्य रासक वा लास्य :पक की संज्ञा दी है ?

(A) भारत जननी (B) भारत दुर्दशा (C) श्री चन्द्रावली (D) सती प्रताप

ANS : (B) भारत दुर्दशा

  1. निम्नलिखित में से जयशंकर प्रसाद का कौन-सा नाटक कृष्ण मिश्र के संस्कृत नाटक प्रबोध चन्द्रोदय की अन्यापदेशिक शैली पर आधारित है ?

(A) सज्जन (B) कामना (C) करुणालय (D) प्रायश्चित

ANS : (B) कामना

  1. अपनी ख़बरकिस लेखक की आत्मकथा है ?

(A) पाण्डेय बेचन शर्मा उग्र (B) राहुल सांकृत्यायन

(C) श्याम सुन्दरदास             (D) रामविलास शर्मा

ANS : (A) पाण्डेय बेचन शर्मा उग्र

  1. अमरकान्त द्वारा लिखित कहानी नहीं है :

(A) डिप्टी कलक्टरी  (B) ज़िन्दगी और जोंक (C) एक और ज़िन्दगी (D) मौत का नगर

ANS : (C) एक और ज़िन्दगी

  1. वाक्य रसात्मकं काव्यं।” किसकी उक्ति है?

(1) रुद्रट           (2) विश्वनाथ

(3) वामन          (4) कुन्तक

ANS : (2) विश्वनाथ

  1. ध्वन्यालोकके रचयिता हैं :

(A) आनन्दवर्धन (B) भामह (C) दण्डी (D) उद्भट

ANS : (A) आनन्दवर्धन

  1. विरेचनके प्रवर्तक आचार्य हैं :

(A) लॉन्जाइनस (B) प्लेटो (C) कॉलरिज (D) अरस्तू

ANS : (D) अरस्तू

  1. लघुमानव की अवधारणा किस आलोचक की है?

(A) लक्ष्मीकान्त वर्मा (B) मपक्तिबोध (C) विजयदेव नारायण साही (D) जगदीश गुप्त

ANS : (C) विजयदेव नारायण साही

  1. रचनाकाल की दृष्टि से निम्नलिखित कवियों का सही अनुक्रम है :

(A) कबीर, अमीर खुसरो, दादूदयाल, सुन्दरदास

(B) अमीर खुसरो, कबीर, दादूदयाल, सुन्दरदास

(C) अमीर खुसरो, कबीर, सुन्दरदास, दादूदयाल

(D) दादूदयाल, कबीर, अमीर खुसरो, सुन्दरदास

ANS : (B) अमीर खुसरो, कबीर, दादूदयाल, सुन्दरदास

  1. रचनाकाल की दृष्टि से निम्नलिखित कवियों का सही अनुक्रम है : :

(A) आलम, घनानन्द, ठाकुर, द्विजदेव

(B) घनानन्द, ठाकुर, आलम, द्विजदेव

(C) आलम, ठाकुर, घनानन्द, द्विजदेव

(D) द्विजदेव, घनानन्द, आलम, ठाकुर

ANS : (A) आलम, घनानन्द, ठाकुर, द्विजदेव

  1. प्रकाशन-वर्ष की दृष्टि से निम्नलिखित कृतियों का सही अनुक्रम है :

(1) स्वदेश संगीत, कुंकुम, राष्ट्रीय मंत्र, रेणुका

(2) राष्ट्रीय मंत्र, कुंकुम, रेणुका, स्वदेश संगीत

(3) कुंकुम, स्वदेश संगीत, राष्ट्रीय मंत्र, रेणुका

(4) राष्ट्रीय मंत्र, स्वदेश संगीत, रेणुका, कुंकुम

ANS : (4) राष्ट्रीय मंत्र, स्वदेश संगीत, रेणुका, कुंकुम

  1. जन्मकाल की दृष्टि से निम्नलिखित कवियों का सही अनुक्रम है :

(A) जगन्नाथदास रत्नाकर, सत्यनारायण कविरत्न, गयाप्रसाद शुक्ल सनेही, मुकुटधर पाण्डेय

(B) सत्यनारायण कविरत्न, जगन्नाथदास रत्नाकर, मुकुटधर पाण्डेय, गयाप्रसाद शुक्ल सनेही

(C) जगन्नाथदास रत्नाकर, गयाप्रसाद शुक्ल सनेही, मुकुटधर पाण्डेय, सत्यनारायण कविरत्न

(D) गयाप्रसाद शुक्ल सनेही, जगन्नाथदास रत्नाकर, मुकुटधर पाण्डेय, सत्यनारायण कविरत्न

ANS : (A) जगन्नाथदास रत्नाकर, सत्यनारायण कविरत्न, गयाप्रसाद शुक्ल सनेही, मुकुटधर पाण्डेय

  1. जन्मकाल की दृष्टि से निम्नलिखित कव्य-ग्रंथों का सही अनुक्रम है :

 (A) काश्मीर सुषमा, प्रियप्रवास, मिलन, भारत भारती

(B) भारत भारती, मिलन, काश्मीर सुषमा, प्रियप्रवास

(C) काश्मीर सुषमा, भारत भारती, प्रियप्रवास, मिलन

(D) प्रियप्रवास, मिलन, काश्मीर सुषमा, भारत भारती

ANS : (C) काश्मीर सुषमा, भारत भारती, प्रियप्रवास, मिलन

  1. प्रकाशन-वर्ष के अनुसार निम्नलिखित नाटकों का सही अनुक्रम है :

(A) विषवंश, शुतुरमुर्ग़, कोर्ट मार्शल, रसगंधर्व

(B) शुतुरमुर्ग़, रसगंधर्व, कोर्ट मार्शल, विषवंश

(C) रसगंधर्व, कोर्ट मार्शल, शुतुरमुर्ग़, विषवंश

(D) शुतुरमुर्ग़, कोर्ट मार्शल, विषवंश, रसगंधर्व

ANS : (B) शुतुरमुर्ग़, रसगंधर्व, कोर्ट मार्शल, विषवंश

  1. प्रकाशन-वर्ष के अनुसार प्रेमचन्द के उपन्यासों का सही अनुक्रम है :

(A) रंगभूमि, प्रतिज्ञा, ग़बन, कर्मभूमि

(B) प्रतिज्ञा, कर्मभूमि, ग़बन, रंगभूमि

(C) रंगभूमि, ग़बन, प्रतिज्ञा, कर्मभूमि

(D) कर्मभूमि, रंगभूमि, प्रतिज्ञा, ग़बन

ANS : (A) रंगभूमि, प्रतिज्ञा, ग़बन, कर्मभूमि

  1. प्रकाशन-वर्ष के अनुसार मैत्रेयी पुष्पा के उपन्यासों का सही अनुक्रम है :

(A) अल्मा कबूतरी, कही ईसुरी फाग, चाक, गुनाह-बेगुनाह

(B) चाक, कही ईसुरी फाग, गुनाह-बेगुनाह, अल्मा कबूतरी

(C) कही ईसुरी फाग, चाक, अल्मा कबूतरी, गुनाह-बेगुनाह

(D) चाक, अल्मा कबूतरी, कही ईसुरी फाग, गुनाह-बेगुनाह

ANS : (D) चाक, अल्मा कबूतरी, कही ईसुरी फाग, गुनाह-बेगुनाह

  1. निम्नलिखित कहानियों का प्रकाशन-वर्ष के अनुसार सही अनुक्रम है :

(A) इन्दुमती, प्लेग की चुड़ैल, ग्यारह वर्ष का समय, दुलाईवाली

(B) दुलाईवाली, ग्यारह वर्ष का समय, प्लेग की चुड़ैल, इन्दुमती

(C) प्लेग की चुड़ैल, इन्दुमती, दुलाईवाली, ग्यारह वर्ष का समय

(D) इन्दुमती, प्लेग की चुड़ैल, दुलाईवाली, ग्यारह वर्ष का समय

ANS : (A) इन्दुमती, प्लेग की चुड़ैल, ग्यारह वर्ष का समय, दुलाईवाली

  1. जीवनकाल की दृष्टि से निम्नलिखित पाश्चात्य आलोचकों का सही अनुक्रम है :

(A) कॉलरिज, क्रोचे, आई. ए. रिचर्ड्स, मैथ्यू आर्नाल्ड

(B) क्रोचे, कॉलरिज, मैथ्यू आर्नाल्ड, आई. ए. रिचर्ड्स

(C) कॉलरिज, मैथ्यू आर्नाल्ड, क्रोचे, आई. ए. रिचर्ड्स,

(D) मैथ्यू आर्नाल्ड, क्रोचे, कॉलरिज, आई. ए. रिचर्ड्स

ANS : (C) कॉलरिज, मैथ्यू आर्नाल्ड, क्रोचे, आई. ए. रिचर्ड्स,

  1. निम्नलिखित कवियों को उनके आश्रयदाता राजाओं के साथ सुमेलित कीजिए :

(A) घनानन्द       (i) ओऱछा नरेश

(B) पद्माकर       (ii) मुहम्मद शाह रंगीला

(C) केशवदास       (iii) जगतसिंह

(D) देव            (iv) पृथ्वीसिंह (v) आज़मशाह

कूट :

A     b     c     d

(A)   (iI)   (iii)   (i)    (v)

(B)   (iv)   (iii)   (ii)    (i)

(C)   (ii)    (v)   (iv)   (iii)

(D)   (iii)   (i)    (ii)    (iv)

ANS : (A)  (iI)   (iii)   (i)    (v)

  1. निम्नलिखित पात्रों को उनसे संबंद्ध काव्यों के साथ सुमेलित कीजिए :

      सूची-I       सूची-II

(A) कैमास         (i) आल्हखंड

(B) परमाल        (ii)  कीर्तिलता

(C) राघव चेतन     (iii) पृथ्वीराज रासो

(D) इब्राहीम शाह    (iv) पउमचरिउ (V)  पदमावत

कूट :

      (a) (b) (c) (d) 

(1)   (i) (ii) (iii) (iv)

(2)   (iii) (V) (ii) (i)

(3)   (ii) (iii) (iv) (V)

(4)   (iv) (V) (iii) (ii)

ANS : (2)   (iii) (V) (ii) (i)

  1. निम्नलिखित काव्य-पंक्तियों को उनके कवियों के साथ सुमेलित कीजिए :

      सूची-I       सूची-II

(A) हे मेरी तुम! आओ बैठें पास-पास

हम हास और परिहास करें               (i) धूमिल

(B) और वह सुरक्षित नहीं है

जिसका नाम हत्यारों की सूची में नहीं है   (ii)  नागार्जुन

(C) साम्यवाद के पथ में लीद किया करते हैं

मानवता का पोस्टर देखा लगे रेंकने       (iii) केदारनाथ अग्रवाल

(D) कर गई चाक{तिमिर का सीना

जीत की फांक, यह तुम थीं              (iv) त्रिलोचन

                                    (V)  लक्ष्मीकान्त वर्मा

कूट :

      (a) (b) (c) (d) 

(1)   (i) (iii) (ii) (iv)

(2)   (iii) (i) (iv) (ii)

(3)   (i) (ii) (iii) (iv)

(4)   (iv) (iii) (ii) (i)

ANS : (2)   (iii) (i) (iv) (ii)

  1. निम्नलिखित काव्य-पंक्तियों को उनके कवियों के साथ सुमेलित कीजिए :

      सूची-I                                                               सूची-II

(A) जीवन तेरा छुद्र अंश है व्यक्त नील घन माला में

सौदामिनी संधि-सा सुन्दर क्षणभर रहा उजाला में।        (i) पंत

(B) जो सोए सपनों के तम में वे जागेंगे यह सत्य बात   (ii)  निराला

(C) बांधो न नाव इस ठांव बन्धु

पूछेगा सारा गांव बन्धु      (iii) महादेवी वर्मा

(D) पंथ होने दो अपरिचित

प्राण रहने दो अकेला (iv) प्रसाद (V)  भगवतीचरण वर्मा

कूट :

      (a) (b) (c) (d) 

(1)   (i) (ii) (iii) (iv)

(2)   (iii) (V) (ii) (i)

(3)   (ii) (iii) (iv) (V)

(4)   (iv) (V) (iii) (ii)

ANS : (1)   (i) (ii) (iii) (iv)

  1. निम्नलिखित काव्य-ग्रंथों को उनके कवियों के साथ सुमेलित कीजिए :

(A) अमोला               (i) रिरिजा कुमार माथुर

(B) पलाशवन             (ii) महादेवी वर्मा

(C) दीपशिखा             (iii) भरतभूषण अग्रवाल

(D) धूप के धान           (iv) त्रिलोचन शास्त्री  (v) लरेन्द्र शर्मा

कूट :

A     b     c     d

(A)   (iv)   (ii)    (iii)   (v)

(B)   (i)    (ii)    (iii)   (iv)

(C)   (iii)   (iv)   (v)   (ii)

(D)   (iv)   (v)   (ii)    (i)

ANS : (D)  (iv)   (v)   (ii)    (i)

  1. भारतेन्दु की नाट्य-उक्तियों को उनके नाटकों के साथ सुमेलित कीजिए :

      सूची-I       सूची-II

(A) प्यारी! वे अधर्म्म से लड़ें, हम तो अधर्म्म नहीं कर सकते

हम आर्यवंशी लोग धर्म्म छोडझ्कर लडझ्ना क्या जानें?   (i) अंधेर नगरी

(B) कोऊ नहिं पकरत मेरो हाथ

बीस कोटि सूत होत फिरत मैं हा हा होय अनाथ।  (ii)  विषस्य विषमौषधम

(C) चना हाकिम सब जो खाते।

सब पर दूना टिकस लगाते।। (iii) सत्य हरिश्चन्द्र

(D) हमने माना कि उसको स्वर्ग लेने की इच्छा न हो तथापि

अपने कर्मों से वह स्वर्ग का अधिकारी तो हो जाएगा।     (iv) नीलदेवी (V)  भारत दुर्दशा

कूट :

      (a) (b) (c) (d) 

(1)   (iv) (iii) (ii) (v)

(2)   (iv) (v) (i) (iii)

(3)   (i) (ii) (iv) (v)

(4)   (ii) (v) (iii) (i)

ANS : (2)   (iv) (v) (i) (iii)

  1. निम्नलिखित औपन्यासिक पात्रों को उनके उपन्यासों के साथ सुमेलित कीजिए :

      सूची-I             सूची-II

(A) भुवन            (i) अपने अपने अजनबी

(B) जोहरा          (ii)  अनामदास का पोथा

(C) कालीचरन      (iii) मैला आंचल

(D) रैक्व                (iv) गबन (V)  नदी के द्वीप

कूट : (A) (b) (c) (d)

(1)   (v) (ii) (i) (iv)

(2)   (i) (ii) (iii) (iv)

(3)   (v) (iv) (iii) (ii)

(4)   (iv) (v) (i) (iii)

ANS : (3)   (v) (iv) (iii) (ii)

  1. निम्नलिखित कहानियों को उनके लेखकों के साथ सुमेलित कीजिए :

(A) कसाईबाड़ा                  (i) मन्नू भंडारी

(B) तिरिछ                         (ii) शिवमूर्ति

(C) एक प्लाट सैलाब            (iii) मृदुला गर्ग

(D) डेफोडिल जल रहे हैं        (iv) उदयप्रकाश (v) अखिलेश

कूट :

A     b     c     d

(A)   (ii)    (iv)   (i)    (iii)

(B)   (v)   (iv)   (iii)   (ii)

(C)   (i)    (iii)   (iv)   (v)

(D)   (iii)   (ii)    (v)   (i)

ANS : (A)  (ii)    (iv)   (i)    (iii)

  1. निम्नलिखित रचनाओं को उनके रचनाकारों के साथ सुमेलित कीजिए :

(A) श्रृंगार प्रकाश    (i) धनंजय

(B) व्क्ति विवेक    (ii) :द्र भट्ट

(C) दश:पक        (iii) रुद्रट

(D) श्रृंगार तिलक    (iv) भोज    (v) महिमभट्ट

कूट :

A     b     c     d

(A)   (i)    (ii)    (iii)   (iv)

(B)   (ii)    (iii)   (i)    (v)

(C)   (iii)   (iv)   (v)   (ii)

(D)   (iv)   (v)   (i)    (ii)

ANS : (D)  (iv)   (v)   (i)    (ii)

  1. निम्नलिखित रचनाओं को उनके रचनाकारों के साथ सुमेलित कीजिए :

(A) सेक्रेड वुड              (i) आर. पी. ब्लैकमर

(B) रिवेल्यूएशन            (ii) केनेथ बर्क

(C) लैंग्वेज एज़ जेस्चर     (iii) टी. एसट इलियट

(D) ए ग्रामर ऑफ मोटिव्ज़ (iv) एफ. आर. लीविस (v) रेमण्ड विलियम्स

कूट :

A     b     c     d

(A)   (iii)   (iv)   (i)    (ii)

(B)   (i)    (ii)    (v)   (iii)

(C)   (ii)    (i)    (iv)   (v)

(D)   (v)   (iii)   (ii)    (i)

ANS : (A)  (iii)   (iv)   (i)    (ii)

निर्देश : प्रश्न संख्या 41 से 45 तक के प्रश्नों के दो कथन दिए गए हैं। इनमें से एक स्थापना (A) और दूसरा तर्क (R) है। कोड में दिए गए विकल्पों में से सही विकल्प का चयन कीजिए।

  1. स्थापना (Assertion) (A) : कविता बाह्य प्रकृति से निरपेक्ष मनुष्य की अन्तःप्रकृति का प्रकाशन है ।

तर्क (Reason) (R) : क्योंकि कविता मनुष्य की भावात्मक सत्ता का सृष्टि में विस्तार करती है ।

(A) (A) सही और (R) ग़लत

(B) (A) सही और (R) सही

(C) (A) ग़लत और (R) सही

(D) (A) ग़लत और (R) ग़लत

ANS : (C) (A) ग़लत और (R) सही

  1. स्थापना (Assertion) (A) : मिथक जातीय जीवन की संयुक्त धरोहर है।

तर्क (Reason) (R) : इसीलिए उसका रचनात्मक उपयोग सामाजिक ज़िम्मेदारी है।

(A)  (A) सही और (R) ग़लत

(B) (A) ग़लत और (R) सही

(C) (A) ग़लत और (R) ग़लत

(D) (A) सही और (R) सही

ANS : (D) (A) सही और (R) सही

  1. स्थापना (Assertion) (A) : वैचारिक प्रतिबद्धता रचनात्मक व्यक्तित्व की प्राथमिक अनिवार्यता है ।

तर्क (Reason) (R) : क्योंकि साहित्यकार का रचनात्मक विचार सामाजिक परिव्रतन का बीजवपन करता है।

(A)  (A) सही और (R) ग़लत

(B) (A) ग़लत और (R) सही

(C) (A) सही और (R) सही

(D) (A) ग़लत और (R) ग़लत

ANS : (B) (A) ग़लत और (R) सही

  1. स्थापना (Assertion) (A) : चमत्कार वह प्रक्रिया है जिससे चित्त का विस्तार होता है । रसास्वाद और चमत्कार की प्रवृत्ति में कोई अन्तर नहीं है।

तर्क (Reason) (R) : इसीलिए भारतीय काव्यशास्त्र में कई चमत्कार बिन्दुओं का उल्लेख हुआ है ।

(A)  (A) सही और (R) सही

(B)  (A) सही और (R) ग़लत

(C)  (A) ग़लत और (R) ग़लत 

(D)  (A) ग़लत और (R) सही

ANS :  (A)  (A) सही और (R) सही

  1. स्थापना (Assertion) (A) : अवस्थानुकृतिर्नाट्यम् अर्थात् अवस्था की अनुकृति को नाचक कहते हैं।

तर्क (Reason) (R) : क्योंकि नाचक में लोक के सुख-दुख का अनुकरण आंगिक अभिनय द्वारा किया जाता है ।

(A) (A) ग़लत और (R) ग़लत

(B) (A) सही और (R) सही

(C) (A) सही और (R) ग़लत

(D) (A) ग़लत और (R) सही

ANS : (C) (A) सही और (R) ग़लत

 निर्देश : निम्नलिखित अवतरण को ध्यानपूर्वक पढ़ें और उससे सम्बन्धित प्रश्नों (46 से 50 तक) के उत्तरों के दिए गए बहु-विकलपों में से सही विकल्प का चयन करें :

भावों की छानबीन करने पर मंगल का विधान करने वाले दो भाव ठहरते हैं करुणा और प्रेम। करुणा की गति रक्षा की ओर होती है और प्रेम की रंजन की ओर। लोक में प्रथम साध्य रक्षा है। रंजन का अवसर उसके पीछे आता है। अतः साधनावस्था या प्रयत्नपक्ष को लेकर लॉचलने वाले काव्यों का बीजभाव करुणा ही ठहरती है। इसी से शायद अपने दो नाटकों में रामचरित को लेकर चलने वाले महकवि भवभूति ने करुणा को ही एक मात्र रस कह दिया। रामायण का बीजभाव करुणा है जिसका जिसका संकेत क्रौंच को मारने वाले निषाद के प्रति वाल्मीकि के मुह से निकले वचन द्वारा आरम्भ ही में मिलता है। उसके उपरान्त भी बालकाण्ड के 15वें सर्ग में इसका आभास दिया गया है, जहाँ देवताओं ने ब्राह्मण द्वारा पीड़ित लोक की दारुण दशा का निवेदन किया है। उक्त आदिकाव्य के भीतर लोकमंगल की शक्ति के उदय का आभास ताड़ा और मारीच के दमन के प्रसंग में ही मिल जाता है। पंचवटी से वह शक्ति ज़ोर पकड़ती दिखाई देती है। सीताहरण होने पर उसमें आत्म-गौरव और दाम्पत्य-प्रेम की प्रेरणा का भी .ग हो जाता बै। लोक के प्रति करुणा जब सफल हो जाती है, लोक जब पीड़ा और विध्न-बाधा से मुक्त हो जाता है तब राम राज्य में जाकर लोक के प्रति प्रेम प्रवर्तन का, प्रजा के रंजन का, उसके अधिकाधिक सुख के विधान का अवकाश मिलता है। 

  1. साधनावस्था को लेकर चलने वाले काव्यों का बीजभाव करुणा है । क्योंकि :

(A) लोक में प्रथम साध्य रक्षा है। 

(B) करुणा कीगति रक्षा की ओर नहीं है। 

(C) मंगल-विधान में करुणा का अवसर पीछे आता है।   

(D) करुणा में रंजन का अवसर है।

ANS : (A) लोक में प्रथम साध्य रक्षा है।

  1. लोक में प्रजारंजन के सुख-विधान का असर कब मिलता है ?

(A) लोक जब आत्मगौरव प्राप्त करता है।

(B) लोम में जब दाम्पत्य-प्रेम की प्रेरणा का योग होता है।

(C) लोक में जब प्रेम प्रवर्तन होता है।

(D) लोक जब पीड़ित अवस्था से मुक्ति पाता है।

ANS : (D) लोक जब पीड़ित अवस्था से मुक्ति पाता है।

  1. पंचवटी प्रसंग का महत्व किसमें प्रतिष्ठत है ?

(A) लोकमंगल की शक्ति के विकास में

(B) लोकरंजन के विकास में

(C) लोककल्याण से विरक्ति में

 (D) लोक संस्कार के विस्तार में

ANS : (A) लोकमंगल की शक्ति के विकास में

  1. उपर्युक्त गद्यांश में सीताहरण प्रसंग को क्यों उद्धृत किया गया है ?

(A) लोक के प्रति करुणा को व्यक्त करने हेतु।

(B) आत्मसम्मान और नैतिकता को व्यक्त करने के लिए।

(C) प्रजा-रंजन को विस्तार देने के लिए

(D) लोकमंगल, आत्मगौरव और दाम्पत्य-प्रेम को प्रतिष्ठित करने के लिए।

ANS : (D) लोकमंगल, आत्मगौरव और दाम्पत्य-प्रेम को प्रतिष्ठित करने के लिए

  1. लोकमंगल के उदय का आधार कौन-सी घटना है?

(A) निषाद का आचरण (B) सीताहरण

(C) ताड़का और मारीच का दमन (D) रावण द्वारा लोक को पीड़ित करना

ANS : (D) रावण द्वारा लोक को पीड़ित करना