जयशंकर प्रसाद और उनकी रचनाओं पर पूछे गए प्रश्न-3

<script data-ad-client="ca-pub-3805952231082933" async src="https://pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js"></script>
Copy code snippet

जयशंकर प्रसाद और उनकी रचनाओं पर पूछे गए प्रश्न-3

  1. जयशंकर प्रसाद का अन्तिम कहानी-संग्रह है:

(1) आँधी (2) छाया (3) इन्द्रजाल (4) सालवती

उत्तर : (3) इन्द्रजाल (1936 ई.)

 

  1. प्रकाशनकाल के अनुसार प्रसाद की कहानियों का सही अनुक्रम है:

(1) छाया, प्रतिध्वनि, इन्द्रजाल, आँधी

(2) छाया, प्रतिध्वनि, आँधी, इन्द्रजाल

(3) आँधी, छाया, इन्द्रजाल, प्रतिध्वनि

(4) प्रतिध्वनि, आँधी, छाया, इन्द्रजाल

उत्तर : (2) छाया (1912 ई.), प्रतिध्वनि (1926 ई.), आँधी (1929 ई.), इन्द्रजाल (1936 ई.)

 

  1. ‘आकाशदीप’ के रचनाकार हैं:

(1) पन्त (2) प्रसाद (3) निराला (4) महादेवी

उत्तर : (2) प्रसाद

 

  1. प्रसाद ने किस कहानी में अकालग्रस्त आदिवासियों की भूख की पीड़ा का मार्मिक चित्रण किया है ?

(1) प्रलय (2) प्रतिमा (3) सहयोग (4) पाप की पराजय

उत्तर : (4) पाप की पराजय (प्रतिध्वनि)

 

  1. ‘शरणागत’के रचनाकार हैं:

(1) पन्त (2) प्रसाद (3) निराला (4) महादेवी

उत्तर : (2) प्रसाद (छाया)

 

  1. प्रसाद की दलित जीवन के यथार्थ पर आधारित कहानीहैं:

(1) मधुवा (2) पुरस्कार (3) नीरा (4) चित्रमन्दिर

उत्तर : (1) मधुवा (आंधी, 1931 ई.)

 

  1. ‘‘कविता करना अनन्त पुण्य का फल है। इस दुराशा और अनन्त उत्कण्ठा से कवि जीवन व्यतीत करने की इच्छा हुई।’’ ౼यह संवाद-पंक्ति जयशंकर प्रसाद के किस नाटक की है?

          (1) चन्द्रगुप्त (2) ध्रुवस्वामिनी

          (3) स्कन्दगुप्त        (4) राज्यश्री

 उत्तर : स्कंदगुप्त के प्रथम अंक में मातृगुप्त (काव्यकर्ता कालिदास) का कथन

 

8. निम्नलिखित गंर्थों को उनके रचनाकारों के साथ सुमेलित कीजिए :

सूची-I          सूची-II

(A) काव्य और कला तथा अन्य निबंध (i) रघुवीर सिंह

(B) शेष स्मृतियाँ                                           (ii) धीरेन्द्र वर्मा

(C) मेरी जीवनयात्रा                                      (iii) जयशंकर प्रसाद

(D) शृंखला की कड़ियाँ                       (iv) राहुल सांकृत्यायन     (v) महादेवी वर्मा

कोड :

          (A) (b) (c) (d))

(1)     (v) (ii) (ii) (i)

(2)     (ii) (iii) (iv) (i)

(3)     (iii) (i) (iv) (v)

(4)     (iv) (v) (i) (ii)

उत्तर : (3)    (iii) (i) (iv) (v)

 

9. निम्नलिखित पंक्तियों को उनके कवियों के साथ सुमेलित कीजिए :

       सूची-I                          सूची-II

(A) कर्म का भोग भाग का कर्म  (i) निराला

    यही जड़ का चेतन आनन्द।

(B) होगी जय, होगी जय, हे पुरुषोत्तम नवीन ।

    कह महाशक्ति राम के वदन में हुई लीन। (ii) मुक्तिबोध

(C) मौन भी अभिव्यंजना है : जितना तुम्हारा सच है उतना ही कहो।

(iii) जयशंकर प्रसाद

(D) परम अभिव्यक्ति               

    लगातार धूमती है जग में

    पता नहीं जाने कहाँ, जाने कहाँ वह है।      (iv) अज्ञेय  (v) धमिल

कोड :

          (A) (b) (c) (d))

(1)     (ii) (iii) (iv) (v)

(2)     (iii) (i) (iv) (ii)

(3)     (i) (iv) (v) (iii)

(4)     (v) (iv) (ii) (i)

उत्तर : (2)    (iii) (i) (iv) (ii)

 

10. निम्नलिखित पात्रों को उनके नाटकों के साथ सुमेलित कीजिए :

        सूची-I          सूची-II

(A) पर्णदत्त            (i) सूर्य की अंतिम किरण से सूर्य की पहली किरण तक

(B) हेरूप              (ii) स्कन्द्रगुप्त

(C) ओक्काक        (iii) माधवी

(D) गालव              (iv) कलंकी (v) नरसिंह कथा

कोड :

          (A) (b) (c) (d))

(1)     (i) (ii) (ii) (iv)

(2)     (ii) (i) (iii) (iv)

(3)     (iv) (iii) (v) (i)

(4)     (ii) (iv) (i) (iii)

उत्तर : (4)    (ii) (iv) (i) (iii)

 

11. निम्नलिखित रचनाओं को उनके रचनाकारों के साथ सुमेलित कीजिए :

सूची-I          सूची-II

(a)     सूखी डाली            (i) रामकुमार वर्मा

(b)     कारवाँ                            (ii) जयशंकर प्रसाद

(c)      बादल की मृत्यु      (iii) उपेन्द्रऩाथ अश्क

(d)     एक घूँट                 (iv) विष्णुनागर (v) भुवनेश्वर

कोड :

         (a)     (b)     (c)      (d)

(1)     (iv)    (i)      (ii)     (v)

(2)     (i)      (ii)     (iv)    (iii)

(3)     (ii)     (v)     (i)      (ii)

(d)     (ii)     (iv)    (iii)    (i)

उत्तर : (3)    (ii)     (v)     (i)      (ii)

 

12. समरस थे जड़ या चेतन

सुन्दर साकार बना था

चेतनता एक विलसती

आनन्द अखंड घना था।

౼जयशंकर प्रसाद की उपर्युक्त पंक्तियां कामायनी के किस सर्ग की हैं?

(1) श्रद्धा (2) रहस्य (3) आनन्द (4) इड़ा

उत्तर : आनंद सर्ग (कामायनी)

 

13. निम्नलिखित में से जयशंकर प्रसाद का कौन-सा नाटक कृष्ण मिश्र के संस्कृत नाटक प्रबोध चन्द्रोदय की अन्यापदेशिक शैली पर आधारित है ?

(A) सज्जन (B) कामना (C) करुणालय (D) प्रायश्चित

उत्तर : (B) कामना

 

14. निम्नलिखित काव्य-पंक्तियों को उनके कवियों के साथ सुमेलित कीजिए:

          सूची-I                   सूची-II

(A) जीवन तेरा छुद्र अंश है व्यक्त नील घन माला में

सौदामिनी संधि-सा सुन्दर क्षणभर रहा उजाला में।           (i) पंत

(B) जो सोए सपनों के तम में वे जागेंगे यह सत्य बात         (ii)  निराला

(C) बांधो न नाव इस ठांव बन्धु

पूछेगा सारा गांव बन्धु      (iii) महादेवी वर्मा

(D) पंथ होने दो अपरिचित

प्राण रहने दो अकेला       (iv) प्रसाद (V)  भगवतीचरण वर्मा

कूट :

          (a) (b) (c) (d) 

(1)     (i) (ii) (iii) (iv)

(2)     (iii) (V) (ii) (i)

(3)     (ii) (iii) (iv) (V)

(4)     (iv) (V) (iii) (ii)

उत्तर : (2)    (iii) (V) (ii) (i)

 

15. काम मंगल से मंडित श्रेय

सर्ग इच्छा का है परिणाम;

तिरस्कृत कर उसको तुम भूल

बनाते हो असफल भवधाम।

उपर्युक्त काव्य-पंक्तियां कामायनी के किस सर्ग की हैं?

(A) वासना (B) काम (C) श्रद्धा (D) लज्जा

उत्तर :  (C) श्रद्धा

 

16. निम्नलिखित में से जयशंकर प्रसाद का कौन-सा नाटक कल्हण की ‘राजतरंगिणी’ पर आधारित है?

(A) राज्यश्री (B) विशाख (C) जनमेजय का नागयज्ञ (D) आजातशत्रु

उत्तर : (B) विशाख

 

17. जयशंकर प्रसाद के नाट्यगीतों को उनके नाटकों के साथ सुमेलित कीजिए:

          सूची-I                   सूची-II

(A)  आह वेदना मिली विदाई,

मैंने भ्रमवश जीवन संचित

मधुकरियों की भीख लुटाई                           (i) अजातशत्रु

(B) यौवन तेरी चंचल छाया

इसमें बैठ घूंट भर पी लूं जो रस तू है लाया।   (ii) ध्रुवस्वामिनी

(C) कैसी कड़ी रूप की ज्वाला

पड़ता है पतंग-सा इसमें मन हो कर मतवाला (iii) स्कन्दगुप्त

(D) स्वर्ग है नहीं दूसरा और

सज्जन हृदय परम करुणामय यही एक है ठौर। (iv) कामना (V) चन्द्रगुप्त

कोड:

          (a) (b) (c) (d)  

(1)     (ii) (iii) (iv) (i)

(2)     (i) (iv) (v) (iii)

(3)     (iii) (ii) (v) (i)

(4)     (v) (i) (iii) (iv)

उत्तर : (3)    (iii) (ii) (v) (i)

 

  1. निम्नलिखित पात्रओं को उनके नाटकों के साथ सुमेलित कीजिए :

सूची-1                   सूची-2

(A) मालविका       (i) सूर्यमुख

(B) मल्लिका         (ii) देहान्तर

(C) वेणुरति           (iii) चन्द्रगुप्त

(D) देवयानी          (iv) शस्त्र संतान  (v) आषाढ़ का एक दिन

कोड :

          (a)     (b)     (c)      (d)

(A)    (iii)    (v)     (i)      (ii)

(B)     (iii)    (i)      (ii)     (iv)

(C)    (ii)     (iii)    (iv)    (v)

(D)    (iv)    (iii)    (ii)     (i)

उत्तर : (A) (iii) (v) (i) (ii)

 

20. निम्नलिखित रचनाओं को उनके रचनाकारों के साथ सुमेलित कीजिए :

सूची-I          सूची-II

(a)     वनबेला                 (i) रामनरेश त्रिपाठी

(b)     उत्तरा                    (ii) निराला

(c)      परिक्रमा                (iii) पन्त

(d)     चित्राधार                (iv) महादेवी वर्मा (v) प्रसाद

कोड :

        (a)     (b)     (c)      (d)

(1)     (i)      (ii)     (iii)    (iv)

(2)     (ii)     (iii)    (iv)    (v)

(3)     (iii)    (v)     (iv)    (ii)

(d)     (ii)     (iv)    (iii)    (v)

उत्तर :         (2) (ii)     (iii)    (iv)    (v)

 

21. निम्नलिखित काव्य-पंक्तियों को उनके कवियों के साथ सुमेलित कीजिए :

         सूची-I                                                         सूची-II

(A) प्रिय स्वतंत्र रव अमृत मंत्र नव भारत में भर दे               (i) प्रसाद

(B) इस प्रिये मधु है तुम हो, उस पार न जाने क्या होगा।    (ii) निराला

(C) अरे कहां देखा है तुमने, मुझे प्यार करने वाले को ।                (iii) बच्चन

(D) यह मन्दिर का दीप, इसे नीरव जलने दो  (iv) महादेवी वर्मा  (v) पन्त

कूट :

         a        b       c        d

(1)     (i)      (ii)     (iii)    (iv)

(2)     (iii)    (iv)    (v)     (i)

(3)     (ii)     (iii)    (i)      (iv)

(4)     (iv)    (i)      (ii)     (iii)

उत्तर : (3)    (ii)     (iii)    (i)      (iv)

 

22. निम्नलिखित रचनाओं को उनके नाट्य रूपों के साथ सुमेलित कीजिए :

       सूची-I                             सूची-II                                    

(A) चन्द्रावली                  (i)  गीति नाट्य

(B) विषस्य विषमौषधम   (ii) एकांकी

(C) एक घूँट                    (iii) भाण

(D) करुणालय                (iv) नाटिका (v) प्रहसन

कोड :

          (a)     (b)     (c)      (d)

(1)     (iv)    (iii)    (ii)     (i)

(2)     (i)      (ii)     (III)   (iV)

(3)     (ii)     (iv)    (i)      (v)

(4)     (iii)    (i)      (iv)    (ii)

उत्तर : (1)    (iv)    (iii)    (ii)     (i)

 

23. ‘जो घनीभूत पीड़ा थी, मस्तक में स्मृति-सी छाई,

दुर्दिन में आँसू बनकर, वह आज बरसने आई।’

–उपर्युक्त काव्य पंक्तियाँ किस कवि की हैं?

(A) मैथिलीशरण गुप्त               (B) महादेवी वर्मा  

(C) जयशंकर प्रसाद                  (D) नरेन्द्र शर्मा

उत्तर : (C) जयशंकर प्रसाद

 

24. रचनाकाल की दृष्टि से निम्नलिखित कृतियों का सही अनुक्रम है :

(A) कुकुरमुत्ता, दीपशिखा, पल्लव, कामयनी

(B) दीपशिखा, पल्लव, कामयनी, कुकुरमुत्ता

(C) कामयनी, पल्लव, दीपशिखा, कुकुरमुत्ता

(D) पल्लव, कामयनी, दीपशिखा, कुकुरमुत्ता

उत्तर : (D) पल्लव (1926 ई.), कामयनी (1936 ई.), दीपशिखा (1942 ई.), कुकुरमुत्ता (1942 ई.)

 

25. निम्नलिखित पात्रों को उनके नाटकों के साथ सुमेलित कीजिए :

(A) मल्लिका              (i) देहान्तर

(b) देवसेना       (ii) आषाढ़ का एक दिन

(c) शीलवती      (iii) स्कन्दगुप्त

(d) शर्मिष्ठा        (iv) कोमल गांधार

(v)  सूर्य की अन्तिम किरण से सूर्य की पहली किरण तक

कोड :

         (A)    (b)     (c)      (d)

(A)    (v)     (ii)     (i)      (iii)

(B)     (iii)    (ii)     (i)     (v)

(C)    (ii)     (iii)    (v)     (i)

(D)    (i)      (ii)     (iii)    (v)

उत्तर : (C)  (ii)     (iii)    (v)     (i)