हिंदी भाषा और साहित्य तथा भारतीय काव्यशास्त्र एवं पाश्चात्य काव्यशास्त्र पर उत्कृष्ट अध्ययन-सामग्री, UPSC/NTA/UGCNET/JRF/SET/BPSC/PGT/M. ED./B. ED. एवं अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए।

लालचंद या लक्षोदय (Lalchand or Lakshodaya : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में

लालचंद या लक्षोदय (Lalchand or Lakshodaya : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में ये मेवाड़ के महाराणा जगतसिंह (संवत् 1685-1709) की माता...

Continue reading...

महाराज टोडरमल (Maharaj Todarmal : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में

महाराज टोडरमल (Maharaj Todarmal : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में ये कुछ दिन शेरशाह के यहाँ ऊँचे पद पर थे, पीछे...

Continue reading...

आलम (Alam : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में

आलम (Alam : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में ये अकबर के समय के एक मुसलमान कवि थे जिन्होंने सन् 991 हिजरी...

Continue reading...

नरोत्तमदास (Narottamdas : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में

नरोत्तमदास (Narottamdas : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में ये सीतापुर जिले के वाड़ी नामक कस्बे के रहनेवाले थे। शिवसिंहसरोज में इनका...

Continue reading...

महापात्र नरहरि बंदीजन (Mahapatra Narhari Bandijan : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में

महापात्र नरहरि बंदीजन (Mahapatra Narhari Bandijan : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में महापात्र नरहरि बंदीजन : इनका जन्म संवत् 1562 में...

Continue reading...

कृपाराम (Kriparam : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में

कृपाराम (Kriparam : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में कृपाराम : इनका कुछ वृत्तांत ज्ञात नहीं। इन्होंने संवत् 1598 में रसरीति पर...

Continue reading...

लालचदास (Lalachdas : the Hindi poet) :  आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में

लालचदास (Lalachdas : the Hindi poet) :  आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में लालचदास : ये रायबरेली के एक हलवाई थे। इन्होंने संवत् 1585 में ‘हरिचरित‘...

Continue reading...

छीहल (Chheehal : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में

छीहल (Chheehal : the Hindi poet) : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में छीहल : ये राजपूताने की ओर के थे। संवत् 1575 में इन्होंने ‘पंचसहेली‘...

Continue reading...