सेठ गोविंद दास (1896–1974) की रचनाएँ/WORKS OF SETH GOVIND DAS

सेठ गोविंद दास (1896–1974) की रचनाएँ/WORKS OF SETH GOVIND DAS

(16 अक्टूबर 1896-18 जून 1974 ई., जबलपुर, मध्य प्रदेश, वल्लभ सम्प्रदाय के अनुयायी मारवाड़ी परिवार में)

हिन्दी में मोनो ड्रामा के प्रवर्तक, गाँधीवादी हिंदी साहित्यकार, सांसद, 1961 ई. में पद्म भूषण से सम्मानित।

नाटक

पौराणिक नाटक : कर्तव्य (1936 ई., श्रीराम-कृष्ण चरित्र विषयक), कर्ण (1946 ई., कृष्ण-कथा से संबंध में), स्नेह या स्वर्ग (1946 ई., गीतिनाट्य)।

ऐतिहासिक नाटक : कुलानता (1927 ई.), हर्ष (1935 ई.), शशिगुप्त (1942 ई.), विजय वेली अथवा कुपुरुष (1950 ई.), शेरशाह (1950 ई.), अशोक (1957 ई.), गृहस्थ से भिक्षु और भिक्षु से गृहस्थ (1957 ई.)।

सामाजिक नाटक : दुख क्यों (1921 ई.), प्रकाश (1935 ई.), सिद्धांत स्वातंत्र्य (1936 ई.), विश्व प्रेम (1937 ई.), भूदान (1940 ई.), सेवापथ (1940 ई.), पाकिस्तान (1946 ई.), पतित सुमन (1942 ई.), त्याग और ग्रहण (1943 ई.), संतोष कहां (1945 ई.), प्रेम या पाप (1946 ई.), दलित कुसुम (1946 ई.), महत्व किसे (1947 ई.), ग़रीबी और अमीरी (1947 ई.), बड़ा पापी कौन (1948 ई.), सुख किसमें (1949 ई.), हिंसा या अहिंसा (1970 ई.)।

प्रयोगशील नाटक : विकास(1936 ई. स्वप्न नाटक)।

प्रतीकवादी नाटक : ‘नवरस’ (1940 ई., दार्शनिक नाट्य-रुपक)।

जीवनी नाटक : भारतेंदु हरिश्चंद्र (1955 ई.), महाप्रभु वल्लभाचार्य (1957 ई.), महात्मा गांधी।

एकांकी-संग्रह

सप्तरश्मि (1940 ई.), एकादशी (1942 ई.), चतुष्पद, पंचभूत। सेठ गोविंद दास का पहला एकांकी ‘स्पर्धा’ जो सरस्वती में प्रकाशित हुआ था।

उपन्यास

इन्दुमति, सेठजी ने देवकीनंदन खत्री के तिलस्मी उपन्यास चन्द्रकांता संततिकी तर्ज़ पर चंपावती‘, ‘कृष्ण लताऔर सोमलतानामक उपन्यास लिखे।

सेठजी ने शेक्सपीयर के रोमियो-जूलियट‘, ‘एज़ यू लाइक इट‘, ‘पेटेव्कीज प्रिंस ऑफ टायरऔर विंटर्स टेलनामक प्रसिद्ध नाटकों के आधार पर सुरेन्द्र-सुंदरी‘, ‘कृष्ण कामिनी‘, ‘होनहारऔर व्यर्थ संदेहनामक उपन्यासों की रचना की।

काव्य-ग्रंथ : वाणासुर-पराभव‘ (1919 ई., महकाव्य)।

यात्रा-वृत्तांत : हमारा प्रधान उपनिवेश (1938 ई.), सुदूर दक्षिण पूर्व (1951 ई.), पृथ्वी-परिक्रमा (1954 ई.)।

आत्मकथा : आत्मनिरीक्षण (1957 ई.)।

https://www.hindisahityavimarsh.com/

https://hindisahityavimarsh.blogspot.com/