यशपाल की प्रमुख रचनाएं

यशपाल की प्रमुख रचनाएं
#यशपाल के निबंध
#न्याय का संघर्ष (1940 ई.), #बात बात में बात (1950 ई.), #देखा-परखा समझा (1951 ई.)
#यशपाल के कहानी-संग्रह

#पिंजरे की उड़ान (1939 ई.),

#ज्ञानदान (1943 ई.),

#अभिशप्त (1943 ई.),

#तर्क का तूफ़ान (1944 ई.),

#भस्मावृत्त चिंगारी (1946 ई.),

#वो दुनिया (1948 ई.),

#फूलों का कुर्ता (1949 ई.),

#धर्मयुद्ध (1950 ई.),

#उत्तराधिकारी (1951 ई., पात्र : हरसिंह, मानी, कुशली, गनेर सिंह),

#चित्र का शीर्षक (1951 ई.),

#तुमने क्यों कहा था मैं सुंदर हूं (1954 ई., पात्र : चित्रकार निगम, माया, वकील साहब),

#उत्तमी की मां (1955 ई.),

#सच कहने की भूल (1962 ई.),

#खच्चर और आदमी (1965 ई.),

#भूख के तीन दिन (1968 ई., पात्र : मक्रील, शिवपार्वती,) #दूसरी नाक,

#परदा।

#यशपाल के ‌‌‌‌ उपन्यास

#दादा कामरेड (1941 ई., पात्र : हरीश, शैल नायक-नायिका),

#देशद्रोही (1943 ई., पात्र : डॉक्टर भगवानदास खन्ना, राजाराम, राज, चंदा),

#दिव्या (1945 ई., पात्र : दिव्या, रत्नप्रभा, मल्लिका),

#पार्टी कामरेड (1946 ई., पूंजीवाद, गांधीवाद और समाजवाद के बीच के संघर्ष का सजीव चित्रण, पात्र : पद में लालभावरिया, गीता नायक-नायिका),

#मनुष्य के रूप (1949 ई.),

#अमिता (1956 ई.),

#झूठा-सच (2 भाग 1958 ई., भारत-विभाजन की भूमिका और उसके दुष्परिणामों का विस्तृत चित्रण, पात्र : कनक, उर्मिला, तारा, जयदेव पुरी, सूदजी, गिल,असद, सोमराज, डॉक्टर प्राणनाथ),

#बारह घंटे (1962 ई.),

#अप्सरा का शाप (1965 ई.),

#क्यों फंसे (1968 ई.),

#तेरी मेरी उसकी बात (1974 ई., 1976 ई. में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित, यशपाल का अंतिम उपन्यास, गांधीवादी विचारधारा का विरोधी उपन्यास, पात्र : ऊषा, अमर सेठ, रूद्र दत्त पाठक, नरेंद्र)।
#यशपाल कीआत्मकथा

#सिंहावलोकन
#यशपाल के यात्रा-वृतांत
#लोहे की दीवार के दोनों ओर (1953 ई.)