Uncategorized

शैली-सम्राट #राजा राधिकारमणप्रसाद और उपन्यास-सम्राट #प्रेमचंद की #भाषा में अंतर

शैली-सम्राट #राजा राधिकारमणप्रसाद और उपन्यास-सम्राट #प्रेमचंद की #भाषा में अंतर (Shailesh Samrat Raja Radhika Raman Prasad Singh aur upnyas Samrat Premchand ki bhasha mein antar) “राजा...

Continue reading...

नंददास : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में

नंददास : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में ‘अष्टछाप’ के आठ कवि हैं : सूरदास, कुंभनदास, परमानंददास, कृष्णदास, छीतस्वामी, गोविंदस्वामी, चतुर्भुजदास और नंददास। (हिंदी साहित्य का...

Continue reading...

मुहावरे और कहावतें (लोकोक्तियाँ)

मुहावरे और कहावतें  डॉ. वचनदेव कुमार मुहावरे की परिभाषा इन शब्दों में देते हैं, “मुहावरे ऐसे वाक्यांश होते हैं जिनसे वाक्य सुसंगठित, चमत्कारजनक और सारगर्भित बनते...

Continue reading...

HINDI KI BOLIYAN AUR UNKE KSHETRA/हिंदी की बोलियां और उनके क्षेत्र

हिंदी की बोलियां और उनके क्षेत्र हिंदी की पांच बोलियां (उपभाषाएं) हैं : 1. पश्चिमी हिंदी 2. पूर्वी हिंदी 3. राजस्थानी 4. बिहारी 5. पहाड़ी 1....

Continue reading...

ANEK SHABDON KE EK SHABD-2

#पढ़ने योग्य __पठनीय #पुत्र का पुत्र__पोता, पौत्र #खाने योग्य__खाद्य #जहाँ तक सध  सके__यथासाध्य #अपने को धोखा देने वाला__आत्मवंचक #अपने को धोखा देना__आत्मवंचना #ऊपर चढ़ने वाला__आरोही #नीचे...

Continue reading...

#ब्रह्मराक्षस (गजानन माधव #मुक्तिबोध, NTAUGC NET/JRF के नए पाठ्यक्रम में शामिल)

#ब्रह्मराक्षस (गजानन माधव #मुक्तिबोध, NTAUGC NET/JRF के नए पाठ्यक्रम में शामिल) ‘ब्रह्मराक्षस‘ मुक्तिबोध की लंबी कविता है। इसमें एक ऐसे ब्राह्मण को प्रस्तुत किया गया है...

Continue reading...

संत कवि का जीवन काल (कालक्रमानुसार)

संत कवि का जीवन-काल (कालक्रमानुसार) नामदेव (1267 ई., सतारा, महाराष्ट्र) संत त्रिलोचन (1267 ई., महाराष्ट्र) कबीर (1398-1518 ई., काशी) रविदास (रैदास, 1398-1448 ई., काशी) संत पीपा...

Continue reading...