साहित्य मंच

राजा राधिकारमणप्रसाद सिंह (10 सितम्बर 1890 ई. को 24 मार्च 1971 ई.) Aur ‘Kanon mein Kangana’

राजा राधिकारमणप्रसाद सिंह (10 सितम्बर 1890 ई. को 24 मार्च 1971 ई.) Aur ‘Kanon mein Kangana’ शैली-सम्राट, कथाकार और पद्म भूषण राजा राधिकारमणप्रसाद सिंह का बिहार...

Continue reading...

पं. चंद्रधर शर्मा गुलेरी : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में

पं. चंद्रधर शर्मा गुलेरी : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में इनका जन्म जयपुर में एक विख्यात पंडित घराने में 25 आषाढ़ संवत् 1940 में हुआ...

Continue reading...

भिखारीदास (Bhikharidas): आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में

भिखारीदास (Bhikharidas): आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में दास (भिखारी दास) : ये प्रतापगढ़ (अवध) के पास टयोंगा गाँव के रहने वाले श्रीवास्तव कायस्थ थे। इन्होंने...

Continue reading...

भिखारादास : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में

भिखारादास : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में दास (भिखारी दास) : ये प्रतापगढ़ (अवध) के पास टयोंगा गाँव के रहने वाले श्रीवास्तव कायस्थ थे। इन्होंने...

Continue reading...

नाभादास : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में

नाभादास : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में नाभादास जी अग्रदास जी के शिष्य, बड़े भक्त और साधुसेवी थे। संवत् 1657 के लगभग वर्तमान थे और...

Continue reading...

नामदेव : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में

नामदेव आचार्य : रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में महाराष्ट्र देश के प्रसिद्ध भक्त नामदेव (संवत् 1328-1408) ने हिंदू मुसलमान दोनों के लिए एक सामान्य भक्तिमार्ग का...

Continue reading...

नंददास : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में

नंददास : आचार्य रामचंद्र शुक्ल की दृष्टि में ‘अष्टछाप’ के आठ कवि हैं : सूरदास, कुंभनदास, परमानंददास, कृष्णदास, छीतस्वामी, गोविंदस्वामी, चतुर्भुजदास और नंददास। (हिंदी साहित्य का...

Continue reading...