अन्य सामग्रियां

हिंदी-साहित्यकारों का जीवन-काल (#वर्णक्रमानुसार)-2

हिंदी-साहित्यकारों का जीवन-काल (#वर्णक्रमानुसार)-2   #तुलसीदास (1497-1623 ई.) #त्रिलोचन (1917-2007 ई.) #दिनेश नंदिनी डालमिया (1922-2006 ई.) #दीनदयाल गिरि (1803-1858 ई.) #दीप्ति खंडेलवाल (1930 ई.) #दुलारे लाल...

Continue reading...

#हिंदी-साहित्यकारों का #जीवन-काल (#वर्णक्रमानुसार)-1

  #हिंदी-साहित्यकारों का #जीवन-काल (#वर्णक्रमानुसार)-1   #अंबिकादत्त व्यास (1858–1900 ई.) #अज्ञेय (1911–1987 ई.) #अब्दुल बिस्मिल्लाह (1949 ई.) #अभिमन्यु अनत (1937 ई.) #अमरकांत (1925 ई.) #अमृतराय (1921–1996...

Continue reading...

#हिंदी-साहित्यकारों के #पत्र : #इतिहास के आईने में

#हिंदी–साहित्यकारों के #पत्र : #इतिहास के आईने में <script data-ad-client=”ca-pub-3805952231082933″ async src=”https://pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js”></script> Copy code snippet   #पत्र संग्रह (#महात्मा मुंशीराम)                            ...

Continue reading...

#संस्कृत के प्रमुख काव्यशास्त्री और उनकी #रचनाएं

#संस्कृत के प्रमुख काव्यशास्त्री और उनकी #रचनाएं #भरत (#2री शती ईस्वी पूर्व से 2री शती के बीच) : #नाट्यशास्त्र #भामह (#6ठी शती का मध्यकाल) : #काव्यालंकार...

Continue reading...

#अंधेर नगरी/Andher Nagari (1881 ई., प्रहसन) : भारतेंदु हरिश्चंद्र

<script data-ad-client=”ca-pub-3805952231082933″ async src=”https://pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js”></script> Copy code snippet #अंधेर नगरी/Andher Nagari (1881 ई., प्रहसन) : भारतेंदु हरिश्चंद्र (NTA/UGCNET/JRF के नए सिलेबस में शामिल : Hindi Sahitya Vimarsh)...

Continue reading...

#संस्कृत के प्रमुख काव्यशास्त्री (कालक्रमानुसार)

<script data-ad-client=”ca-pub-3805952231082933″ async src=”https://pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js”></script> Copy code snippet #संस्कृत के प्रमुख काव्यशास्त्री (कालक्रमानुसार) #भरत          #2री शती ईस्वी पूर्व से 2री शती के बीच...

Continue reading...

‘#ध्रुवस्वामिनी’ नाटक चार के गीत (Four Songs of the Drama Dhruvswamini)

‘#ध्रुवस्वामिनी’ नाटक चार के गीत  iliyashussain1966@gmail.com  Mobile : +91-9717324769 जयशंकर प्रसाद रचित नाटक #‘ध्रुवस्वामिनी नाटक में कुल चार गीत हैं दो गीत मंदाकिनी ने गाए हैं ‘#यह...

Continue reading...